बायोटेक्नोलॉजी क्या है? (2022) | जैव प्रद्योगिकी के बारे में पूरी जानकारी

What is biotechnology in hindi?  और यह जैव प्रद्योगिकी किस तरह से काम करती है? इस तरह के काफी सारे सवाल आपके दिमाग में चल रहे होंगे, दोस्तों अक्सर आपने देखा होगा की बिना गर्मी के मौसम में आपको बाजार में आम देखने मिलेंगे, बिना सर्दी के मौसम में आपको केले देखने मिलेंगे,

 

ऐसी ही बहोत सी सब्जिया और फल है जोकि कुछ सालो पहले हम सिर्फ एक ही मौसम में खा पते थे मगर आज हम इस तरह के फल और सब्जी को साल में कभी खा और उगा सकते है।

 

 ऐसे ही पहले किसी पशु  जानवर को बढ़ने में एक निश्चित वक़्त लगता था मगर अगर बाजार में या फिर किसी Animal Framing Hous में देखेंगे तो अपने वक़्त से पहले ही पशु या जानवर बड़ा हो जाता है यह सारि चीज़े कैसे होती है।

 

 

आखिर ऐसा क्या है जिस तकनीक के कारन हमें विज्ञानं, जिव विज्ञानं, औद्योगीकरण में हमें बदलाव देखने मिल रहा है, जोकि एक ही तकनीक के यह बदलाव देखने मिल रहा है। 

 

हमने बताई हुए सभी तरह के बदलाव हमें biotechnology तकनीक की वजह से देखने मिलते है जो की यह तकनीक अपने आप में ही लाजवाब है, Biotechnology को हम एक वाक्य में बता नहीं सकते बलिक इसके जानने के लिए हमें काफी कुछ पढ़ना पड़ता है। 

 

आपके इस काम को हमने और आसान सरल कर दिया है क्यूकी आज हम आपको what is biotechology in hinid और biotechnology के प्रकार, इस तकनीक के उपयोग, फायदे नुकसान इन सभी के बारे में बताने जारहे है, बस आप यह लेख आखरी तक पढ़े 

 
 
 
 ये भी पढ़े: 

 

 

Table of Contents

 जैव प्रौद्योगिकी क्या है | What Is Biotechnology in Hindi?

 

what is biotechnology in hindi

 

बायोटेक्नोलॉजी तकनीक में जीवविज्ञान, रसायन विज्ञानं, सूक्ष्म जीवविज्ञानं इसी तरह से अभियांत्रिकी अवधारणा इन सभी शाखाओ के एकत्रित उपयोग करके सूक्ष्मजीवों, और वनस्पतियो की उत्पादन क्षमता बढ़ाना साथ ही साथ दो वानस्पतियो या सुक्ष्म जीवो का मिश्रण करके नई तरह की प्रजाति बनाने की इस आधुनिक तकनीक को हम ‘Biotechnology‘ कहते है।

 

अगर इसे साधारण भाषा में कहा जाये तो Biotechnology विभिन्न उत्पादों का उत्पादन करने के लिए जैविक प्रणालियों और विधियों का उपयोग है जो तकनीकी रूप से मानव के लिए उपयुक्त हैं।

 

 

 

जैव प्रौद्योगिकी का इतिहास | History Of Biotechnology In Hindi 

 

biotechnology history in Hindi

 

आप में से कही लोगो को लगता होगा की Biotechnology तकनीक काफी आधुनिक तकनीक है मगर यह बात पूरी तरह से गलत है क्यूकी प्राचीन यूग से इंसान Biotechnology का इस्तेमाल कर रहा है।

 

अगर हमें दूध का दही करना हो, इडली बनानी हो या फिर या फिर शराब बनानी हो तो इस तरह की सभी क्रियाओ में हम बायोटेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करते है। 

 

अगर हम बात करे Biotechnology के इतिहास की तो Biotechnology का क्षेत्र १९ वी शताब्दी से सूक्ष्मीजीव की खोज के साथ तेजी से विकसित होना शुरू हुआ था।
 
 
ग्रेगर मेंडल ने पाश्चर और लिस्टर जैसे क्षेत्र में दिग्गजों द्वारा किण्वन और माइक्रोबियल प्रक्रियाओं पर आनुवांशिकी और ग्राउंडब्रेकिंग कार्य का अध्ययन किया।
 
 
१९ वीं शताब्दी की शुरुआत में जैव प्रौद्योगिकी ने अलेक्जेंडर फ्लेमिंग द्वारा पेनिसिलिन की प्रमुख खोज की, जो 1940 के दशक में बड़े पैमाने पर उत्पादन में चली गई।

 

 

ये भी पढ़े :

 

 

बायोटेक्नोलॉजी की ऐतिहासिक खोज 

 

  • 1950 के दशक में DNA की 3D संरचना की खोज।
  • इंसुलिन संश्लेषण और 1960 के दशक में खसरा, कण्ठमाला और Rubela के लिए टीकों का विकास।
  • 1970 के दशक में DNA अनुसंधान में व्यापक प्रगति हुई थी ।
  • 1980 के दशक में Cancer और Hepatitis-B जैसी बीमारियों के इलाज के लिए पहली बायोटेक-व्युत्पन्न दवाओं और टीकों का विकास किया गया था।
  • 1990 के दशक में Multiple Sclerosis  और Cystic Fibrosis के प्रबंधन के लिए कई जीनों की पहचान और दशकों में नए उपचारों की शुरुआत की गई थी।
  • 1990 के दशक में मानव जीनोम अनुक्रमपूरा हुआ था जिसने पूरी दुनिया भर के वैज्ञानिकों के लिए Cancer, Heart disease और Alzheimer जैसे आनुवंशिक उत्पत्ति वाले रोगों के नए उपचारों पर शोध करना संभव बना दिया।

 

 

 

जैव प्रौद्योगिकी के प्रकार | Types Of Biotechnology in Hindi 

 

Types of biotechnology in hindi

 

 

 

चिकित्सक जैव प्रौद्योगिकी | Medical Biotechnology 

 
चिकित्सा जैव प्रौद्योगिकी (Medical Biotechnology) मनुष्यों के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए जीवित कोशिकाओं और अन्य सेल सामग्रियों का उपयोग है।

 

मुख्य रूप से, इसका उपयोग इलाज खोजने के साथ-साथ बीमारियों से छुटकारा पाने और रोकने के लिए भी किया जाता है।

 

 इसमें शामिल विज्ञान में मानव स्वास्थ्य को बनाए रखने, रोगजनकों को समझने और मानव कोशिका जीव विज्ञान को समझने के विभिन्न या अधिक कुशल तरीके खोजने के लिए अनुसंधान के लिए इन उपकरणों का उपयोग शामिल होता है। 

 

यहां, तकनीक का उपयोग दवा दवाओं के साथ-साथ अन्य रसायनों को रोगों से निपटने के लिए किया जाता है। इसमें बैक्टीरिया, पौधे और पशु कोशिकाओं का अध्ययन शामिल है, पहले यह समझने के लिए कि वे मौलिक स्तर पर किस तरह से कार्य करते हैं।

 

यह DNA (Deoxyribonucleic Acid) के अध्ययन को भारी रूप से शामिल करता है ताकि यह पता लगाया जा सके कि लाभकारी विशेषताओं के उत्पादन को बढ़ाने के लिए कोशिकाओं के आनुवंशिक लेप में हेरफेर कैसे किया जाता है जो मनुष्यों को उपयोगी लग सकता है, जैसे कि इंसुलिन का उत्पादन।
 

 

चिकित्सा जैव प्रौद्योगिकी के उदारहण 

  • वैक्सीन (Vaccines)
  • एंटीबायोटिक (Antibiotics)

 

 

कृषि जैव प्रौद्यिगिकी | Agricultural Biotechnology 

 

कृषि जैव प्रौद्योगिकी (Agricultural Biotechnology) जैविक या रासायनिक प्रक्रियाओं से जुड़े खेत पर उपयोग की जाने वाली सभी तकनीकों पर लागू होती है। यह एक व्यापक श्रेणी है जिसमें कई अलग-अलग प्रकार की तकनीक और विज्ञान शामिल हैं।

कृषि जैव प्रौद्योगिकी में हमें  प्रजनन, आनुवांशिकी, माइक्रोबायोम अनुसंधान, सिंथेटिक रसायन विज्ञान और पशु स्वास्थ्य शामिल हैं।

 
ऐसे ही कृषि जैव प्रौद्योगिकी फसल की पैदावार बढ़ाने या उन पौधों को विशेषताओं को पेश करने के लिए आनुवंशिक रूप से संशोधित पौधों को विकसित करने पर केंद्रित है जो उन्हें उन क्षेत्रों में बढ़ने वाले लाभ के साथ प्रदान करते हैं जो पौधे पर कुछ प्रकार के तनाव कारक है, अर्थात् मौसम और कीट। 
 

 

कृषि जैव प्रौद्यिगिकी के उदारहण 

  • किट प्रतिरोधक फसले (Pest Resistant Crops)
  •  पशु-पौधे प्रजनन (Plant-Animal Breeding)

 

 

औद्योगिक जैव प्रौद्योगिकी | Industrial Biotechnology 

 
औद्योगिक जैव प्रौद्योगिकी (Industrial Biotechnology) औद्योगिक उद्देश्यों के लिए इस Biotechnology का अनुप्रयोग है जिसमें औद्योगिक किण्वन (Industrial Fermentation) भी शामिल है।

 

Industrial Biotechnology का मुख्या उद्देश आधुनिक आणविक जीव विज्ञान की तकनीकों को लागू करना, दक्षता में सुधार करना है जोकि कागज और लुगदी, रासायनिक विनिर्माण और कपड़ा सहित औद्योगिक प्रक्रियाओं के बहुमुखी पर्यावरणीय प्रभावों को कम करता है, जिससे प्रदुषण कम उसर्जित होता है। 

 

इसमें सूक्ष्मजीवों, या एंजाइमों जैसे कोशिकाओं के घटकों का उपयोग करने का अभ्यास भी शामिल है, जो औद्योगिक रूप से उपयोगी होते हैं, जैसे कि भोजन और फ़ीड, रसायन, डिटर्जेंट, कागज और लुगदी, वस्त्र, जैव ईंधन और बायोगैस।

 

बात करे आज के वक़्त की तो, आनुवंशिक रूप से संशोधित जीवों (GMOs) बनाने में महत्वपूर्ण प्रगति हुई है जो अनुप्रयोगों की विविधता और औद्योगिक जैव प्रौद्योगिकी की आर्थिक व्यवहार्यता को बढ़ाते हैं।

 

यह विभिन्न प्रकार के रसायनों और ईंधन का उत्पादन करने और पेट्रोकेमिकल-आधारित अर्थव्यवस्था से दूर जाने के लिए नवीकरणीय कच्चे माल का उपयोग करके ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन को कम करने की दिशा में सक्रिय रूप से आगे बढ़ रहा है। 
 

 

 औद्योगिक जैव प्रौद्योगिकी के उदारहण
  • जैव उत्प्रेरक (Biocatalysts)
  • किण्वन प्रकिया (Fermentation)
  • सूक्ष्मजैविक प्रक्रिया (Microorganism)

 

 

पर्यावरण जैव प्रौद्योगिकी | Environmental Biotechnology 

 
पर्यावरण जैव प्रौद्यिगिकी यानि की Environmental Biotechnology जिसका उपयोग प्राकृतिक पर्यावरण का अध्ययन करने के लिए किया जाता है, यह अपशिष्ट जल के उपचार और प्रदूषण को रोकने में उपयोगी है।

 

पर्यावरण जैव प्रौद्योगिकी पारंपरिक तरीकों की तुलना में कचरे की सफाई में अधिक कुशल है। पर्यावरण को साफ करने के लिए पर्यावरण इंजीनियरों द्वारा नियोजित बायोरेमेडिएशन व्यापक अनुप्रयोग है।

 

यह तकनीक या तो अपशिष्ट स्थल पर मिट्टी में पोषक तत्वों को जोड़ते हैं जो बैक्टीरिया की गतिविधि को उत्तेजित करते हैं या फिर मिट्टी में नए बैक्टीरिया जोड़ते हैं जो कचरे को पचाते हैं और साइट को साफ करते हैं।

 

बायोरेमेडिएशन पर्यावरण जैव प्रौद्योगिकी का एक दिलचस्प क्षेत्र है; इसके अनुप्रयोग विशाल और विश्वसनीय हैं। 

 

खाद्य सुरक्षा, कृषि, जलवायु परिवर्तन और जलवायु शमन में जैव प्रौद्योगिकी अनुप्रयोग प्रसिद्ध हैं। जैव प्रौद्योगिकी के औद्योगिक इंसुलिन हेक्सामर अनुप्रयोग खाद्य और कृषि व्यवसायों के लिए एक लाभदायक विकल्प हैं।

 

इसके अलावा, ये प्रक्रियाएं सुनिश्चित करती हैं कि पर्यावरण को कम से कम नुकसान पहुंचाया जाए। आज पर्यावरण से प्रदुषण रोकने में Biotechnology के इस शाखा का एक बड़ा योगदान माना जाता है। 

 

 

पर्यावरण जैव प्रौद्योगिकी के उदारहण 

  • जैविक उपचार(Bioremediation)
 
 
 
 ये भी पढ़े: 

 

 

 

जैव प्रौद्योगिकी के वर्गीकरण | Color Classification Of Biotechnology In HIndi 

 
इंद्रधनुष की धारियों की तरह, विभिन्न जैव प्रौद्योगिकी अनुप्रयोगों को भी सात रंगों या अनुसंधान और विकास क्षेत्रों में वर्गीकृत किया गया है। 

 

 

लाल जैव प्रौद्योगिकी | Red Biotechnology 

 
250 से अधिक टीकों और दवाओं जैसे कि एंटीबायोटिक्स, पुनर्योजी चिकित्सा और कृत्रिम अंगों के उत्पादन के विकास के लिए इस शाखा का निर्माण किया गया है। 

 

 

हरित जैव प्रौद्योगिकी | Green Biotechnology 

 
इसका उपयोग दुनिया भर में 13 मिलियन से अधिक किसानों द्वारा किटको से लड़ने और फसलों को पोषण करने और सूक्ष्मजीवों और चरम मौसम की घटनाओं, जैसे कि सूखा और ठंढ के खिलाफ उन्हें मजबूत करने के लिए किया जाता है।

 

 

सफेद जैव प्रौद्योगिकी | White Biotechnology 

 
औद्योगिक शाखा उद्योग को अधिक कुशल और टिकाऊ बनाने के लिए विनिर्माण प्रक्रियाओं, जैव ईंधन और अन्य प्रौद्योगिकियों के विकास में सुधार करने के लिए इस शाखा का उपयोग किया जाता है। 

 

 

पीली जैव प्रौद्योगिकी | Yellow Biotechnology

 
यह शाखा खाद्य उत्पादन पर केंद्रित है, उदाहरण के लिए: यह खाना पकाने के तेल में संतृप्त वसा के स्तर को कम करने के लिए अनुसंधान करता है। 

 

 

नीली बायोटेक्नोलॉजी  | Blue Biotechnology

 
यह जलीय कृषि, सौंदर्य प्रसाधन और स्वास्थ्य देखभाल उत्पादों को प्राप्त करने के लिए समुद्री संसाधनों का शोषण करता है।इसके अलावा, यह सबसे व्यापक रूप से कुछ माइक्रोलेगा से जैव ईंधन प्राप्त करने के लिए भी उपयोग की जाने वाली शाखा है।

 

 

भूरी जैव प्रौद्योगिकी | Gray Biotechnology 

 
इसका उद्देश्य दूषित प्राकृतिक पारिस्थितिक तंत्रों का संरक्षण करना है जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, बायोरेमेडिएशन प्रक्रियाएं।

 

 

स्वर्ण जैव प्रौद्योगिकी | Gold Biotechnology 

 
Gold Biotechnology को Bioinformatic के नाम से भी जाना जाता है, यह जैविक जानकारी प्राप्त करने, भंडारण, विश्लेषण और अलग करने के लिए  इस शाखा का इस्तेमाल किया जाता है, विशेष रूप से DNA और Amino Acid अनुक्रमों से संबंधित है।

 

 

 

 बायोटेक्नोलॉजी के उपयोग | Uses Of Biotechnology in Hindi 

 

  • जैव ईंधन निर्माण 
  • एंटीजेनिक वैक्सीन
  • बायोरेमिडेशन 
  • किट प्राधिरोधी फसले 
  • पर्यांवरण को हानिरहित में बदलाव 
  • पनीर उत्पादन 
  • शराब तथा मादक पेय निर्माण 
  • फोरेंसिक विज्ञानं क्षेत्र  

 

 

 

2022 के 5 सबसे बड़े बायोटेक्नोलॉजी ट्रेंड 

 

  • कृत्रिम बुद्धिमत्ता

  • बिग डेटा

  • जीन संपादन

  • सटीक दवा

  • जीन सीक्वेंसिंग

  • जैव निर्माण

    सिंथेटिक जीवविज्ञान

  • बायो प्रिंटंग

  • माइक्रोफ्लुइडिक

  • टिशू इंजीनियरिंग

 

 

 

समापन | Conclusion 

 

दोस्तों बात करे आज के वक़्त की तो Biotechnology का इस्तेमाल इसके अनुप्रयोग बेहद ही व्यापक और है शखाओ में फैले हुए है और इसके वजह से अलग अलग शाखा में बेहद जलद गति से विकास भी हो रहा है। 

 

आज के घड़ी में biotechnology ने इंसानो के मुश्किल भरी बातो को आसान बनाया है जैसे की फसलों की क्षमता और  गुणवत्ता में बढोत्तरी वैसे ही अलग तरह के जीवों में या जानवरो में होने वाला बदलाव और विकास साथ ही साथ बात करे हमारे औद्योगिक वर्ग की तो बड़े बड़े मिल्स, कारखानों प्रदुषन को नियंत्रित करने में आज बायोटेक्नोलॉजी का बेहद बड़ा योगदान माना जाता है। 

 

तो दोस्तों अब आप समझ गए होंगे की बायोटेक्नोलॉजी क्या है? | What is biotechnology in Hindi इसके उपयोग और इसके महत्त्व, इस आर्टकिले से संबधित अगर आपका कोई सवाल या सुझाव होतो कमेंट करके ज़ुरू बताना ध्यन्यवाद, जय हिन्द।

 

 
 
 
ये भी पढ़े: 
 

 

 

FAQ: Biotechnology In Hindi  

 

जैव विज्ञान विभाग की स्थापना भारत में कब हुई?

साल १९८६

 

पोलीमरेज़ शृंखला अभिक्रिया की खोज किसने की थी?

कैरी मुलिस

 

किस विधि द्वारा एक जीव का स्थानांतर दूसरे जीव में किया जाता है?

अनुवांशिकी अभियांत्रिकी

 

डीएनए की खीज किसने की?

जोहन फ्रेडरिक मिशर

Leave a Comment